आदत आसानी से नहीं छुटती- पंचतंत्र कहानी

0
420
panchtantra ki kahaniya

किसी नगर में एक धोबी रहता था. कपड़े धोनी में उसका कोई सानी नहीं था. लेकिन वह अपने गधे के साथ बहुत बुरा बर्ताव करता था. दिनभर उससे हाड़-तोड़ काम कराने के बाद भी खाने को कुछ न देता. बेचारा गधा यहां-वहां मुंह मारकर जो मिलता उसी से अपना पेट भर लेता. ताहि कारण था कि वह बहुत कमजोर हो गया था.

एक दिन जब धोभी जंगल से गुजर रहा था तो उसने एक मर हुआ शेर देखा. मृत शेर को देखकर उसके मस्तिष्क में तुरंत इक विचार कौंधा, ‘यदि इस शेर की खाल उतारकर गधे को ओढा दी जाए तो कैसा रहेगा? लोग गधे को शेर समझकर दार जाएंगे और उसके खाने-पीने की समस्या स्वतः ही हल हो जाएगी. खा-पीकर गधा हष्ट-पुष्ट हो जाएगा और वह उससे अधिक काम ले सकेगा. धोबी बे वैसा ही किया-शेर की खाल उतार ली और घर लौट आया.

अगले दिन काम खत्म करने के बाद उसनी गधे को शेर की खाल ओढा दी और चरने के लिए छोड़ दिया. शेर की खाल में छिपा गधा जब लोगों ने देखा तो वे भयभीत होकर अपने घरों में जा छिपे. उस रात गधे ने भी भरकर मनचाहा भोजन किया और पूर्णतया तृप्त होकर सुबह घर लौटा.

अब तो यह नित्य का नियम ही बन गया था. रात होते भी भरपेट खाने के बाद सुबह होने पर घर लौटता. मुफ्त की भरपेट खाने को मिलती रही, कुछ ही दिनों में गधा हष्ट-पुष्ट हो गया. दिन भर धोबी का काम करता और रात को शेर की खाल ओढ़कर दूसरों के खेत चार जाता. गधा नही खुश था और धोबी नही.

कहावत प्रसिद्ध है कि ‘असलियत छिपाए नहीं छिपती.’ ऐसा ही कुछ गधे के साथ भी हुआ. रात होने पर गधा शेर की खाल ओढ़कर लोगों के खेत चरने लगा. शेर के भ्रम में पड़े लोग वैसे उससे दूर रहते थे. अभी गधा एक खेत में खड़ा बड़े चाव से गाजरें खा ही रहा था कि उसके कानों में किसी अन्य गधे के रेंकने की आवाज पड़ी. गधों का स्वभाव होता है कि एक के रेंकना शुरू करते ही अन्य गधे अपना राग अलापना शुरू कर देते हैं. शेर इ खाल ओढ़े गधे के साथ भी ऐसा ही हुआ. जैसे ही उसके कानों में ‘ढेंचू…ढेंचू’ की आवाज पड़ी वह भी उसी के साथ सुर मिला बैठा.

अब क्या होना था. जो उसे शेर समझकर उससे डरते थे उसकी असलियत जान गए और डंडे लेकर उस पर पिल पड़े. एक साथ इतनी मार गधा नहीं पाया और कुछ ही देर में ढेर हो गया.

कथा-सार

असलियत छिपाना आसान नहीं है. कोई भी रहस्य सदैव रहस्य की परतों में छिपा नहीं रह सकता. संस्कारों का बड़ा ही प्रबल प्रभाव होता है. गधे ने भले ही शेर की खाल ओढ़ ली लेकिन था तो वह गधा ही, और यह रहस्य खुलते ही उसे अपने प्राणों से हाथ धोना पड़ा.

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating / 5. Vote count:

As you found this post useful...

Follow us on social media!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here