विश्व प्रसिद्द व्यक्तित्व- मैक्सिम गोर्की

0
71
Great Personalities Maxim Gorky मैक्सिम गोर्की

maxim gorky मैक्सिम गोर्कीमैक्सिम गोर्की

जन्म: 1868 | मृत्यु: 1936

मैक्सिम गोर्की (Maxim Gorky) एक मानववादी साहित्यकार थे और उनके साहित्य में मुख्यतः निम्न एवं मध्यवर्ग की पीड़ाओ और विडम्बनाओं का चित्रण मिलता है। उनका पप्रारंभिक जीवन कठिनाइयों से परिपूर्ण था और उनके अधिकांश अनुभव भी वेदनामय थे, जिनकी छाया उनके साहित्य पर भी पाई जाती है। उनके उपन्यास ‘मदर’ (Mother) को सारे विश्व में बड़े आदर से देखा जाता है। मैक्सिम गोर्की भले ही नोबेल पुरस्कार से वंचित रहे हो फिर भी साहित्य क्षेत्र में उनकी महत्ता किसी नोबेल पुरस्कारविजेता से कम नहीं है। क्रांति का सन्देश और दलित वर्ग को समर्थन उनकी रचनाओं के मूलमंत्र हैं।

एलेक्सी मक्सिमोविच पेशकोव (Aleksey Maximovich Peshkov) ‘गोर्की’ का जन्म 28 मार्च, 1868 को हुआ था। बचपन में ही माता-पिता की मृत्यु हो जाने से वे नाना-नानी के संरक्षण में आ गए थे। वे अधिक शिक्षित नहीं थे और आजीविका के लिए संघर्ष करते हुए उन्हें मजदूरी भी करनी पड़ी। फिर उन्होंने पत्रकारिता अपनाकर स्वयं ज्ञानार्जन किया। स्थान-स्थान पर जाकर उन्होंने अपने देश की दुर्दशा को अपनी आँखों से देखा। शीघ्र ही वे क्रान्तिकारी बन गये और कम्युनिस्ट पार्टी में शामिल हो गये। 1905 में उन्हें ज़ारशाही द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया तथा वे देश से निष्काषित कर दिए गए। रूस से बाहर रहकर भी गोर्की क्रांति के लिए प्रयत्नशील रहे। 1918 में सत्तारूढ़ होने पर लेनिन ने मैक्सिम गोर्की को अपनी सरकार में प्रचार अधिकारी (Head of Propaganda) नियुक्त कर दिया। मृत्यु के समय उनकी आयु 68 वर्ष थी।

मैक्सिम गोर्की ने ‘मदर’ उपन्यास के अतिरिक्त ‘द लोअर डेप्थ्स’ (The Lower Depths) तथा अन्य अनेक पुस्तके भी लिखी जिनमे उनके प्रारंभिक संघर्षपूर्ण जीवन की ‘आत्मकहानियाँ’ भी है। वास्तव में मैक्सिम गोर्की का स्थान जनसाहित्यकारों में बहुत ऊँचा है। उनके साहित्य में एक पीड़ित रुसी की आत्मा बोलती है। रूस की क्रांति को आमिन्त्रित करने वाले अमर नायको में मैक्सिम गोर्की का नाम सदैव आदर से लिया जाएगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here